OK
12
12

Order Summary

3 Services

 1,234

View Cart
MORE
Store Timings
    search button image
    latest update icon
    Spinal Canal stenosis? It's clinical condition where canal of Spinal column get narrow down to expected dimensions, leading to claudication, means difficulty in walking for certain distance as oneself experience with his normal walking. Symptoms* Low Back Pain Paresthesia , Numbness, Spasms in Calf Muscles, Tingling sensation, Heavier feet. Sometimes Bowl and Bladder incontinence. Investigation- X-ray, MRI, CT scan, EMG, NCV, VIt B12 Treatment* Most of the time someone who is suffering with such symptoms.whenever visit to any general doctors, they simply labelled such conditions as #slipped disc.for that medical conservative treatment start with exercises, physiotherapy and Pain killer. Clinically we can broadly categorised Spinal Canal Stenosis in three types. Mild, Moderate, Severe Medical treatment has values in mild to moderate types with specific safety precautions, unless Motor Power, Bowl and bladder incontinence is not affected. Severe Canal stenosis Most often dealt with Surgery.because of risk with cauda equina syndrome.if not treated timely manner it may compromise your spine vital structure like spinal cord and other important structures.leading to demand for emergency surgery. Type of surgery Patient who is present with symptoms of severe Canal Stenosis demand conventional surgery or Minimal Invasive surgery, Minimal invasive techniques are far safe and with good prognosis. with accuracy and affordable to patients.in such situations if someone who is scared about open surgery, can opt for Minimal Invasive surgery. There'ssmall incision, early ambulatory, , no blood loss and less abstinence from work. Conclusion-if you are feeling or living with such clinical findings can opt for best medical/surgical treatment with proven prognosis with qualified Spine Neurosurgeon.or Pain physician, Neurophysician.who can help you with definite answer.
    Read More
    Details
    Query
    Share
    `
    SEND
    latest update icon
    Trigeminal Neuralgia Well known painful condition also known as Suicidal disease to Trigeminal neuralgia is a chronic pain condition that affects the trigeminal nerve, which carries sensation from your face to your brain. If you have trigeminal neuralgia, even mild stimulation of your face — such as from brushing your teeth or putting on makeup — may trigger a jolt of excruciating pain. You may initially experience short, mild attacks. But trigeminal neuralgia can progress and cause longer, more-frequent bouts of searing pain. Trigeminal neuralgia affects women more often than men, and it's more likely to occur in people who are older than 50. Because of the variety of treatment options available, having trigeminal neuralgia doesn't necessarily mean you're doomed to a life of pain. Doctors usually can effectively manage trigeminal Neuralgia with medications, injections or surgery. Radiofrequency ablation is best non surgical intervention.under fluroscopic guidance by any interventional pain physician.who is expert one to manage without opening your skull. Branches of the trigeminal nerve There are three branches of trigeminal nerve originated from ganglion. 1-Ophthalmic 2-maxillary 3-mandibular Trigeminal neuralgia symptoms may include Any single division or mixed pattern of one or more of these division. Episodes of severe, shooting or jabbing pain that may feel like an electric shock Spontaneous attacks of pain or attacks triggered by things such as touching the face, chewing, speaking or brushing teeth Bouts of pain lasting from a few seconds to several minutes Episodes of several attacks lasting days, weeks, months or longer — some people have periods when they experience no pain Constant aching, burning feeling that may occur before it evolves into the spasm-like pain of trigeminal neuralgia Pain in areas supplied by the trigeminal nerve, including the cheek, jaw, teeth, gums, lips, or less often the eye and forehead Pain affecting one side of the face at a time, though may rarely affect both sides of the face Pain focused in one spot or spread in a wider pattern Attacks that become more frequent and intense over time When to see a doctor If you experience facial pain, particularly prolonged or recurring pain or pain unrelieved by over-the-counter pain relievers, most often patient get Treatment from dentist, who knowingly or unknowingly derooted many teeth.made edentulous jaw.sometime patient goes to ENT surgeon, because of ear pain problem.but none has no definite roles in Pain management. Any Neurophysician or Pain physician is right doctors to consult for further management.but Pain physician not only facilate medical treatment.but he performed minimal invasive procedures like - 1-glycerol rhizolysis 2-Radiofrequency thermocoagulation 3-Ballon decompression 4-Gama knife therapy Causes- In trigeminal neuralgia, also called tic douloureux, the trigeminal nerve's function is disrupted. Usually, the problem is contact between a normal blood vessel — in this case, an artery or a vein — and the trigeminal nerve at the base of your brain. This contact puts pressure on the nerve and causes it to malfunction. Trigeminal Neuralgia can occur as a result of aging, or it can be related to multiple sclerosis or a similar disorder that damages the myelin sheath protecting certain nerves. Trigeminal neuralgia can also be caused by a tumor compressing the trigeminal nerve. Some patients may experience Trigeminal neuralgia due to a Brain lesion or other abnormalities. In other cases, surgical injuries, stroke or facial trauma may be responsible for trigeminal neuralgia. Triggers factors- A variety of triggers may set off the pain of trigeminal Neuralgia, including: Shaving Touching your face Eating food Drinking Brushing your teeth Talking/speech Putting on makeup Encountering a breeze Smiling/chewing Washing your face
    Read More
    Details
    Query
    Share
    `
    SEND
    latest update icon
    Treatment Options for a Herniated Disc The primary goal of treatment for each patient is to help relieve pain and other symptoms resulting from the herniated disc. To achieve this goal, each patient’s treatment plan should be individualised based on the source of the pain, the severity of pain and the specific symptoms that the patient exhibits. What Happens when a Disc Herniate? While the spinal discs are designed to withstand significant amounts of force, injury and other problems with the disc can occur. When the disc ages or is injured, the outer portion (annulus fibrosus) of a disc may be torn and the disc's inner material (nucleus pulposus) can herniate or extrude out of the disc. Each spinal disc is surrounded by highly sensitive nerves, and the inner portion of the disc that leaks out contains inflammatory proteins, so when this material comes in contact with a nerve it can cause pain that can travel down the length of the nerve. Even a small disc herniation that allows a small amount of the inner disc material to just touch the nerve can cause significant pain. In general, patients usually are advised to start with a course of conservative care (non-surgical) prior to considering spine surgery for a herniated disc. Whereas this is true in general, for some patients early surgical intervention is beneficial. For example, when a patient has progressive major weakness in the arms or legs due to nerve root pinching from a herniated disc, having surgery sooner can stop any neurological progression and create an optimal healing environment for the nerve to recover. In such cases, without surgical intervention, nerve loss can occur and the damage may be permanent. There are also a few relatively rare conditions that require immediate surgical intervention. For example, cauda equina syndrome, which is usually marked by progressive weakness in the legs and/or sudden bowel or bladder dysfunction, requires prompt medical care and surgery. Conservative Treatments options- For lumbar and cervical herniated discs, conservative (non-surgical) treatments can usually be applied for around four to six weeks to help reduce pain and discomfort. A process of trial and error is often necessary to find the right combination of treatments. Patients may try one treatment at a time or may find it helpful to use a combination of treatment options at once. For example, treatments focused on pain relief (such as medications) may help patients better tolerate other treatments (such as manipulation or physical therapy). In addition to helping with recovery, physical therapy is often used to educate patients on good body mechanics (such as proper lifting technique) which helps to prevent excessive wear and tear on the discs. If conservative treatments are successful in reducing pain and discomfort, the patient may choose to continue with them. For those patients who experience severe pain and a high loss of function and don’t find relief from conservative treatments, surgery may be considered as an option. The different conservative options for a lumbar herniated disc and a cervical herniated disc are described below. Lumbar herniated disc treatments Conservative approach to herniated disc treatment A combination of the following conservative treatment options can be used through at least the first six weeks of discomfort and pain: Physical therapy, exercise and gentle stretching to help relieve pressure on the nerve root Ice and heat therapy for pain relief Manipulation (such as chiropractic manipulation) Non-steroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs) such as ibuprofen, naproxen or COX-2 inhibitors for pain relief Narcotic pain medications for pain relief Oral steroids to decrease inflammation for pain relief Epidural injections to decrease inflammation for pain relief
    Read More
    Details
    Query
    Share
    `
    SEND
    latest update icon
    Details
    Query
    Share
    `
    SEND
    latest update icon
    Details
    Query
    Share
    `
    SEND
    latest update icon
    JPRC spine & joints care Wednesday, August 1, 2018 स्लिपडिस्क का पिन होल तकनीक[minimal invaisve] से इलाज * स्लिपडिस्क क्या है ? रीढ़ की हड्डियां आपस  में एक दुसरे से एक गद्दी से जुडी होती है, जिसे हम डिस्क कहते है!इसमें एक प्रकार का लचीला पदार्थ होता है , जो हमें झटको से बचता है !जब कभी डिस्क में कोई नुकसान होता है तो ये पदार्थ लीक हो कर नस पर गिरता है तो नस  में दबाव होता है जिसके कारन हाथ या पैरो  में  सुनापन झनझनाहट खिचाव इत्यादि होते है !इस प्रकार से डिस्क का मटेरियल नस पर दबाव डालता है जिसे स्लिपडिस्क कहते है.!अक्सर लोग बाग़ समझते डिस्क एक हड्डी से दूसरे हड्डी पे स्लिप या फिसल गयी जिसको आम इंसान स्लिपडिस्क कहता है !वास्तव में रीढ़  की हड्डी के बीच का पदार्थ रिसकर नस पर दबाव लगता हैऔर मरीज़ विभिन्न लक्ष्ण दिखाए देते है मुख्यता L4-5 or L5-S1 या C 5-6 LEVEL पर MRI  में नज़र आता है  स्लिपडिस्क के प्रकार - 1-cervical slipdisc[सर्वाइकल स्लिपडिस्क] मुख्यता इसमें C5-6-7 LEVEL पर नज़र आता है जिसके कारन सिर , गर्दन, कन्धे या हाथ में दर्द होता है , जिसको अक्सर लोग सिर्फ सर्वाइकल रोग का नाम दे कर इलाज करते रहते है  2 thoracic slipdisc[थोरेसिक स्लिपडिस्क] थोरैसिक डिस्क स्लिप रीढ़ की हड्डी के बीच के भाग में आस-पास से दबाव पड़ने पर होता है। हालांकि, इसकी होने की संभावनाएं बहुत कम है। इससे पीठ के मध्य और कंधे के क्षेत्र में दर्द होता है और यह टी1 से टी12 कशेरुका (Vertebrae) के क्षेत्र को प्रभावित करता है। कभी-कभी दर्द स्लिप डिस्क क्षेत्र से गर्दन, हाथ, उंगलियों, पैरों, कूल्हे और पैर के पंजे तक भी जा सकता है। 3 Lumbar slipdisc[लम्बर स्लिपडिस्क ] लंबर डिस्क स्लिप रीढ़ की हड्डी के निचले हिस्से में होती है, अक्सर चौथी और पांचवीं कशेरुका (Vertebrae) के बीच या पांचवी कशेरुका और सेक्रम (कमर के पीछे की तिकोने हड्डी) के बीच। इससे पीठ के निचले हिस्से, कूल्हे, जांघ, गुदा/जननांग क्षेत्र (पेरिनियल तंत्रिका के माध्यम से) में दर्द होता है और पैर और/या पैर की अंगुली में भी जा सकता है। - Stages of Slipped Disc i स्लिप डिस्क के निम्न मुख्य  चरण हैं - diffuse bulge- जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, डिस्क का निर्जलीकरण शुरू हो जाता है जिससे उसका लचीलापन कम हो जाता है और वह कमज़ोर हो जाती है।डिस्क का कुछ भाग बहार निकल जाता है जिसे डिफ्यूज bulges कहते है  protrusion- समय के साथ डिस्क की रेशेदार परत में दरारें आने लगती हैं जिससे उसके अंदर का द्रव या तो बाहर आने लगता है या उससे बुलबुला बन जाता है।इसको ANNULAR TEAR कहते है  extrusion- इस चरण में न्यूक्लिअस का एक भाग टूट जाता है परन्तु फिर भी वह डिस्क के अंदर ही रहता है।इसको एक्सट्रुडेड EXTRUDED डिस्क  कहते है  sequestration- अंत में, डिस्क के अंदर का द्रव (न्यूक्लियस पल्पोसस) कठोर बाहरी परत से बाहर आने लगता है और रीढ़ की हड्डी में उसका रिसाव होने लगता है।और स्पाइनल कैनाल में अलग से गिर जाता है इसको सेक्वेस्ट्रेटेड डिस्क [SEQUESTRATED DISC]  है  स्लिप डिस्क के जोखिम को बढ़ने वाले कारण हैं  -age group- 35 से 50 वर्षों के बीच की उम्र के लोगों को स्लिप डिस्क होने की संभावनाएं अधिक होती हैं। sex महिलाओं की तुलना में पुरुषों को स्लिप डिस्क का जोखिम लगभग दुगना होता है। weight शरीर का ज़्यादा वज़न आपके शरीर के निचले हिस्से में डिस्क पर तनाव का कारण बनता है। profession जिन व्यवसायों में शारीरिक क्षमता की ज़्यादा आवश्यकता होती है, उन लोगों को स्लिप डिस्क होने का जोखिम ज़्यादा होता है।  डिस्क के लक्षण - Slipped Disc Symptoms  आपको आपकी रीढ़ की हड्डी के किसी भी हिस्से में स्लिप डिस्क हो सकती है (गर्दन से लेकर पीठ के निचले हिस्से तक) लेकिन पीठ के निचले हिस्से में यह सबसे आम है। रीढ़ की हड्डी, तंत्रिकाओं और रक्त वाहिकाओं का एक complex neurovascular system  है। स्लिप डिस्क तंत्रिकाओं और मांसपेशियों पर और इनके आस-पास असामान्य रूप से दबाव डाल सकती है।और विब्भिन प्रकार से प्रकट होता है  स्लिप डिस्क के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं - शरीर के एक तरफ के हिस्से में दर्द या स्तब्धता [सुन्नपन होना। आपके हाथ या पैरों तक दर्द का फैलना[radiculopathy  रात के समय दर्द बढ़ जाना या कुछ गतिविधियों में ज़्यादा दर्द होना। 1 standing posture खड़े होने या बैठने के बाद [after sitting]दर्द का ज़्यादा हो जाना। 2 थोड़ी दूरी पर चलते समय दर्द होना[claudication] 3 अस्पष्टीकृत मांसपेशियों की कमज़ोरी[myopathy] 4 प्रभावित क्षेत्र में झुनझुनी, दर्द या जलन[burning] दर्द के प्रकार व्यक्ति से व्यक्ति भिन्न हो सकते हैं। यदि आपको दर्द से स्तब्धता या झुनझुनी होती है जो आपकी मांसपेशियों को नियंत्रित करने की क्षमता को प्रभावित करता है तो अपने चिकित्सक से सलाह लें।इसके लिए कोई इंटरवेंशनल पैन फिजिशियन  या न्यूरोसर्जन या स्पाइन स्पेशलिस्ट  से परामर्श करे ! स्लिप डिस्क के कारण - Slipped Disc Causes in Hindi स्लिप डिस्क के मुख्य तीन कारण हैं - degenerative  changes  हमारी पीठ हमारे शरीर के भार को बांटती है और रीढ़ की हड्डी में मौजूद डिस्क अलग-अलग गतिविधियों में लगने वाले झटकों से हमें बचती हैं इसीलिए वे समय के साथ कमज़ोर हो जाती हैं। डिस्क की बहरी कठोर परत कमज़ोर होने लगती है जिससे उसमें उभार आता है जिससे स्लिप डिस्क हो जाती है। trauma या चोट लगना  स्लिप डिस्क चोट लगने की वजह से भी हो सकती है। अचानक झटका या धक्का लगना या किसी भारी वस्तु को ग़लत ढंग से उठाने के कारण आपकी डिस्क पर असामान्य दबाव पड़ सकता है जिससे स्लिप डिस्क हो सकती है। mechanical  pressure  ऐसा भी हो सकता है कि उम्र के साथ आपकी डिस्क का क्षरण इतना अधिक हो गया हो कि हलके से झटके (जैसे कि छींकना) के कारण भी आपको स्लिप डिस्क हो जाए। स्लिप डिस्क से बचाव - Prevention and  safety of Slipped Disc  स्लिप डिस्क के जोखिम को कम करने के कुछ तरीके [सेफ्टी measure ]हैं - शरीर का एक स्वस्थ वज़न[maintain body weight] बनाये रखें जिससे आपकी पीठ के निचले हिस्से पर दबाव कम हो सकता है। नियमित रूप से व्यायाम करें[regular exercises] धूम्रपान छोड़ें - निकोटीन आपकी पीठ में डिस्क को नुकसान पहुंचा सकता है, क्योंकि यह पोषक तत्वों को अवशोषित करने की डिस्क्स की क्षमता को कम करता है और डिस्क सूख सकती हैं और भुरभुरी हो सकती हैं। वज़न उठाने के लिए सही तकनीक का उपयोग करें। खाली झुकने या टेढ़े बैठने से ही पीठ दर्द नहीं हो सकता लेकिन यदि पीठ पर चोट आई है तो गलत तरीके से बैठने से दर्द और बढ़ सकता है। खड़े होने या चलने के दौरान अपने कान, कंधों, और कूल्हे एक सीधी रेखा में रखें। बैठने पर अपनी पीठ को सुरक्षित रखें। अपनी पीठ और कुर्सी के बीच एक छोटा तकिया या तौलिये को गोल करके रखें। नींद में अपनी पीठ को सही स्थिति में रखें। एक तरफ सोते समय घुटनों के बीच एक तकिया रखें।  Diagnosis of Slipped Disc शारीरिक जाँच[physical examination] आपकी अनैच्छिक गतिविधियां, मांसपेशियों की मज़बूती, चलने की क्षमता और महसूस करने की क्षमता जांचने के लिए शारीरिक जाँच। एक्स-रे (X-ray) खली एक्स-रे स्लिप डिस्क का निदान नहीं कर पाते हैं, लेकिन यह जांचने के लिए कि किसी अन्य वजह  जैसे हडडी का फ्रैक्चर , डिस्लोकेशन  से पीठ दर्द नहीं है, एक्स-रे का इस्तेमाल किया जाता है।लईकिन xrays  में disc या नस कभी भी नज़र नहीं आतीहै  सीटी स्कैन (CT Scan) एक सीटी स्कैनर कई अलग-अलग दिशाओं से एक्स-रे की एक श्रृंखला लेता है और उन्हें जोड़कर स्लिप डिस्क का निदान करता है।यह एक पूर्ण समाधान नहीं है  एमआरआई (MRI) इसमें रेडियो तरंगों और एक मजबूत चुंबकीय क्षेत्र का उपयोग करके आपके शरीर की आंतरिक संरचनाओं की छवियां बनाई जाती हैं। इस टेस्ट का उपयोग स्लिप डिस्क के स्थान की पुष्टि करने के लिए किया जा सकता है और यह देखने के लिए कि तंत्रिका किस प्रकार प्रभावित हो रही है। यदि  प्रकार की शंका हो तो contrast mri  एक अच्छा विकल्प है  मयेलोग्राम (Myelogram) इसमें एक डाई को रीढ़ की हड्डी के तरल पदार्थ में इंजेक्ट किया जाता है और फिर एक्स-रे लिए जाते हैं। यह परीक्षण आपकी रीढ़ की हड्डी या नसों पर स्लिप डिस्क के कारण दबाव दिखा सकता है स्लिप डिस्क का इलाज - Slipped Disc Treatment  स्लिप डिस्क का उपचार आमतौर पर आपकी असुविधा और अनुभव के स्तर पर निर्भर करता है। *अधिकांश लोग चिकित्सक द्वारा बताये गए ऐसे व्यायाम करके स्लिप डिस्क के दर्द को सुधार सकते हैं जो पीठ और आस-पास की मांसपेशियों को मज़बूत बनाते हैं। *केमिस्ट के पास मिलने वाली दर्द निवारक गोलियां लेने से और भारी चीज़ें न उठाने से स्लिप डिस्क के दर्द में राहत मिल सकती है।लेकिन यह समझदारी नहीं है  *यदि दर्द निवारक गोलियां आपके लक्षणों पर प्रभाव नहीं डालती हैं तो आपके डॉक्टर आपको कोई अन्य दवाएं लेने के लिए भी कह सकते हैं। जैसे- मांसपेशियों के ऐंठन को राहत देने के लिए दवाएं;  muscle relaxants दर्द को दूर करने के लिए analgesics or pregablin- गाबापेंटीन (Gabapentin) या ड्युलोकसेटाईन (Duloxetine) जैसी तंत्रिका के दर्द के लिए दवाएं। *अगर आपके लक्षण 6 सप्ताह में नहीं सुधरते या आपकी मांसपेशियों की गतिविधियों पर स्लिप डिस्क का प्रभाव पड़ता है तो आपके डॉक्टर आपको सर्जरी का उपाय भी दे सकते हैं। आपका स्पाइन  सर्जन पूरे डिस्क को हटाए बिना केवल डिस्क के क्षतिग्रस्त भाग को निकाल सकता है। इसे माइक्रोडिसकेक्टमी (Microdiskectomy)  or endoscopic discectomy कहा जाता है।अधिक गंभीर मामलों में, आपका डॉक्टर एक आपकी पहले वाली डिस्क को बदल कर एक कृत्रिम डिस्क लगा सकते हैं या डिस्क को निकालकर कशेरुकाओं को एक साथ मिला सकते हैं।जिसको fusion surgery  कहते है  मिनिमल इनवेसिव तकनीक -इसमें मरीज़ को परमपरागत तरीके के बजाय छोटा सा चीरा जो की कुछ मिलीमीटर हो सकता है, अन्य ऑपरेशन के बजाय इसमें बेहोश भी नहीं करना पड़ता, लोकल एनेस्थीसिया xylocaine २%, स्किन को सुन्नन कर के नीडल को फ्लूरोस्कोपे में देखते हुए , डिस्क वाली जगह पंहुचा जाता है, इसको निश्चित करने के लिए contrast इंजेक्शन डाला जाता है, इसके कारन डिस्क का रंग change हो जाता है , फिर इसके बाद वायर जो की गाइड का काम करता है, ऊपर dilator sheath चढाई जाती है, फिर एण्डोस्कोप डाल कर रीढ़ के स्थान को देखा कर सम्बंधित खराबी को सही किया जाता है! मिनिमल इनवेसिव तकनीक के फायदे- *इसमें किसी प्रकार का चीरा नहीं लगता ! मिलीमीटर के छेद से सारा प्रोसीजर हो सकता है *लोकल एनेस्थीसिया या एपिडरल में सारा प्रोसीजर जाता है *हॉस्पिटल में 24 घंटे रुकना होता है, *मरीज़ अपने आप कुछ घंटो में अपना नित्य कर्म जैसे उठना बैठना चलना , खाना पीना शुरू कर देता है. *लम्बे समय तक किसी प्रकार की दर्द निवारक इंजेक्शन या टेबलेट्स खाने की जरुरत नहीं रहती *साथ ही किसी प्रकार की एक्सरसाइजेज की जरुरत नहीं रहती स्लिपडिस्क में क्या सावधानी रखे - *ज्यादा लम्बे समय तक दवाई प्रयोग में न ले, *अवांछनीय कसरत न करे *उकडू या पालती न करे *शौच वेस्टर्न स्टाइल का प्रयोग करे * ज्यादा वज़न न उठाये *ऑफिस या काम पर अपने बैठने का posture का ध्यान रखे *केवल स्पाइन स्पेशलिस्ट डॉक्टर से परामर्श ले Sanjay Sharma at 9:08 PM Share No comments: Post a Comment › Home View web version About Me Sanjay Sharma View my complete profile Powered by Blogger.
    Read More
    Details
    Query
    Share
    `
    SEND
    Next >
    company logo